फ्री वाई-फाई एक ऐसी हवा है, जिसका इस्तेमाल सभी यूजर्स करना चाहते हैं। फोन और लैपटॉप में इंटरनेट डेटा बचाने का यह सबसे बढ़िया जरिया है। हालांकि, पब्लिक वाई-फाई का इस्तेमाल करते वक्त आपके डेटा की सिक्यॉरिटी भी बेहद जरूरी है, जिससे कोई गलत व्यक्ति आपके डेटा का गलत इस्तेमाल न कर सके। हम आपको यहां कुछ ऐसे टिप्स दे रहे हैं जिसकी मदद से आप वाई-फाई का इस्तेमाल करते वक्त अपने डिवाइस को सिक्यॉर रख सकते हैं।

अनसिक्यॉर वाई-फाई पर सेंसिटिव डेटा ओपन न करें
पब्लिक वाई-फाई और अनसिक्यॉर वाई-फाई का इस्तेमाल करते वक्त आपके लिए जरूरी है कि आप सेंसिटिव डेटा को अपने डिवाइस पर ओपन न करें। आप इंटरनेट का इस्तेमाल न्यूज, म्यूजिक स्ट्रीमिंग और अपने फेवरिट ब्लॉग को पढ़ने के लिए कर सकते हैं। लेकिन यह ऑनलाइन बैकिंग और डिजिटल ट्रांजैक्शन करने के लिए सही टाइम नहीं है।
सही नेटवर्क को चुनें
सभी पब्लिक वाई-फाई नेटवर्क एक जैसे नहीं होते हैं। उदाहरण के तौर पर फ्री एयरपोर्ट वाई-फाई नेटवर्क, कॉफी शॉप्स, स्टोर्स पर मिलने वाले वाई-फाई सबसे ज्यादा अनसिक्यॉर होते हैं। इसलिए जरूरी है कि सही नेटवर्क को चुनें।
सेमी ओपन वाई-फाई नेटवर्क को चुनें
कई बार आपको नेटवर्क को चुनने का ऑप्शन नहीं मिलता है। हालांकि यदि आपको यह ऑप्शन मिलता है तो आप ओपन नेटवर्क को चुनने की बजाए सेमी-ओपन नेटवर्क को चुने। यह सर्विस आपको एयरपोर्ट लाउंज और कॉफी शॉप्स पर मिलती हैं जहां आपको रिसीप्ट्स पर पासवर्ड डालना होता है। पासवर्ड के बाद ही यह नेटवर्क ओपन होता है।
वाई-फाई को ऑफ करके रखें
जब आपका ऑनलाइन काम खत्म हो जाए तो अच्छा होगा कि आप अपने लैपटॉप, टैब और स्मार्टफोन में ओपन वाई-फाई सेक्शन को बंद कर दें। ये एक अच्छी आदत है जो आपको अनसिक्यॉर नेटवर्क के अटैक से बचा सकती है। इसके अलावा इससे आप काफी हद कर अपने डिवाइस की बैटरी को भी बचा सकते हैं। इसके अलावा यदि आप कंप्यूटर पर वाई-फाई का इस्तेमाल करते हैं तो आप इसमें फाइल शेयरिंग ऑप्शन को बंद करके हैंकिंग के अटैक से बच सकते हैं।
ऐंटी-वाइरस को अप-टु-डेट रखें
अगर आप पब्लिक नेटवर्क का इस्तेमाल करते हैं तो आप इस बात का ध्यान रखें कि आपके डिवाइस में कोई न कोई ऐंटी वाइरस जरूर होना चहिए। इसे टाइम के साथ अपडेट रखना भी जरूरी है। आप मालवेरबाइट्स ( Malwarebytes) का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा आप विडों के लिए अवीरा और मैकओस के लिए सोफोस को भी ट्राई कर सकते हैं।
वीपीएन का करें इस्तेमाल
चाहे आप थर्ड पार्टी वीपीएन सर्विस प्रवाइडर का इस्तेमाल करें या फिर अपने घर पर खुद के वीपीएन का, आपके लिए जरूरी है कि आपका डेटा आपके और सर्विस प्रवाइडर के बीच एनक्रिप्टेड होना चहिए। इससे आप हैकर्स के अटैक से बचे रहेंगे।
क्या आपने गूगल पर कभी कुछ ऐसा सर्च किया है जिसका जवाब आपको न मिला हो या फिर उस जवाब से आप संतुष्ट न हुए हों? अगर हां, तो यहां हम आपको बता रहे हैं कुछ ऐसी वेबसाइट्स के बारे में जहां आप अपने किसी भी सवाल का जवाब पा सकते हैं। आगे की स्लाइड्स पर क्लिक कर जानें इन साइट्स के बारे में...

Post a comment

0 Comments